तुलसी का पौधा किस दिन लगाना चाहिए

नमस्कार दोस्तों, आपने कभी ना कभी आयुर्वेदिक दवाई ली होगी, अगर नहीं तो इसके बारे में सुना जरुर होगा। आयुर्वेद का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा आयुर्वेदिक पौधे होते है। ये पौधे प्रकृति की देन है और यह बीमारियों के इलाज में काफी मदद करते है।

आपने सबसे महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक पौधे तुलसी के बारे में जरूर सुना होगा। इस पौधे को सबसे पवित्र माना जाता है और हर हिन्दू घर में तुलसी का पौधा होना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार जिस घर में यह पौधा होता है वहां हमेशा सभी सुखी और नीरोगी होते है तथा सदैव खुशहाली का माहौल रहता है।

“𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢” के पौधे को सही दिन और सही दिशा में ही लगाना चाहिए। ऐसा मानना है कि कुछ विशेष और अच्छे मुहूर्त के दिनों में ही इस पौधे को लगाना चाहिए। आज इस ब्लॉग में तुलसी का पौधा किस दिन लगाना चाहिए उसके बारे में बताएंगे। इसी के साथ तुलसी के गुणों के बारे में भी जानकारी देंगे। तुलसी का वैज्ञानिक नाम ओसीमम सैक्टम है।

तुलसी का पौधा क्या है :-

तुलसी एक प्रमुख औषधीय पौधा है। “𝐡𝐢𝐧𝐝𝐮 𝐝𝐡𝐚𝐫𝐦” में तुलसी का पौधा महत्वपूर्ण मान्यताओं का हिस्सा है, इसलिए इसको पूजा जाता है। तुलसी को ओसीमम भी कहा जाता है। तुलसी में कई आयुर्वेदिक गुण होते है। तुलसी को हिंदू धर्म में कई धार्मिक और आध्यत्मिक कार्यों में इसका उपयोग किया जाता है।

तुलसी के पत्ते, बीज और छाल का कई रोगों का उपचार करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग श्वास, खांसी, जुखाम आदि बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है। तुलसी का पौधे के पत्तियां हरी होती है। इसके पत्तियों से अच्छी खुशबू आती है और अलग स्वाद की होती है।

इसके पत्ते हल्के नुकीले होते है और हरे-भूरे रंग के होते है। हर जगह अलग-अलग तुलसी की प्रजातियां पाई जाती है लेकिन भारत में पाई जाने वाली तुलसी जिसे ओसीमम सेक्टम कहते है उसे है सर्वश्रेष्ठ माना गया है। तुलसी की जड़ी-बूटियों की रानी कहा जाता है। आपको पता होगा कि हर साल 25 दिसंबर को “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐝𝐢𝐰𝐚𝐬” मनाया जाता है।

इन्हें भी पढ़ें:-

तुलसी का पौधा किस दिन लगाए :-

हिंदू शास्त्रों और पौराणिक कथाओं के अनुसार तुलसी जी को भगवान “𝐯𝐢𝐬𝐡𝐧𝐮” का सबसे प्रिय माना जाता है। भगवान विष्णु का वार गुरुवार होता है और अगर आप उस दिन तुलसी के पौधे को लगाए तो यह काफी शुभ होगा। ऐसा करने से भगवान विष्णु भी आपसे प्रसन्न होंगे।

अगर आप और भी शुभ समय में तुलसी को अपने आंगन में लगाना चाहते है तो साल में कार्तिक मास में लगाएं। आप इस महीने में तुलसी के पौधे में दीपक भी जलाएं और उसकी पूजा करें। ऐसा करने से आपके घर सुख और समृद्धि बनी रहेगी।

आपको पता होगा कि तुलसी जी को “𝐦𝐚𝐭𝐚 𝐥𝐚𝐱𝐦𝐢” का ही रूप माना जाता है। माता लक्ष्मी का सबसे प्रिय वार शुक्रवार होता है तो आप अगर इस दिन तुलसी का पौधा लगाएं तो यह भी शुभ होगा।

अगर आपके घर में धन की कमी है तो आपको शनिवार के दिन तुलसी का पौधा लगाना चाहिए। इससे आपके घर में चल रही आर्थिक तंगी दूर हो जाएंगी। तुलसी का पौधा लगाने के लिए यह शुभ समय होगा।

एक बात ध्यान रखे कि एकादशी, सोमवार, बुधवार, रविवार , सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण के दिन “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐩𝐚𝐮𝐝𝐡𝐚” लगाना पाप होता है तो इस दिन पौधा लगाने से बचे। पौधा लगाने से पहले आप “𝐬𝐡𝐮𝐛𝐡 𝐦𝐮𝐡𝐮𝐫𝐚𝐭” भी देख सकते है। तुलसी के पौधे को लगाने के लिए उत्तर और पूर्व दिशा सबसे अच्छी मानी जाती है।

तुलसी के पौधे के गुण :-

तुलसी का पौधा आयुर्वेदिक विज्ञान में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस पौधे में कई संजीवनी गुण होते है जो कई रोगों के उपचार में काम आते है। अगर आध्यात्मिक और धार्मिक रूप से देखे तो जिस घर में यह पौधा होता है वह घर और परिवार बुरी नजर से बचा रहता है। उस घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है।

इसमें कई औषधीय गुण होते है और कई प्रकार की आयुर्वेदिक दवाइयां बनाने में तुलसी का उपयोग किया जाता है। इसके पत्तों की मदद से खांसी, सर्दी, गले की खराश दूर हो जाती है। अगर किसी को मसूड़ों की समस्या है तो “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐤𝐞 𝐩𝐚𝐭𝐭𝐞” को चबाना लाभकारी होता है।

तुलसी का पौधा आपको शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखता है। यह आपके मानसिक तनाव को कम करता है। यह आपके इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाए रखता है क्योंकि इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण पाए जाते है। तुलसी की मदद से आप अपनी त्वचा पर इंफेक्शन रोक सकते है और स्वस्थ बना सकते है।

तुलसी में कई औषधीय गुण होते हैं जो “𝐜𝐚𝐧𝐜𝐞𝐫 𝐤𝐚 𝐢𝐥𝐚𝐣” में कारगर होते है। इससे आपमें थकान और तनाव से छुटकारा मिलता है। आपमें रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और वजन कम करने में काफी मददगार साबित होता है।

इसके अलावा भी तुलसी के कई गुण और फायदे है। इतना बता सकते है कि अगर आप तुलसी के पत्ते का सेवन करते है तो आप अपने स्वास्थ्य को और बेहतर बना सकते है और रोगों से दूर रह सकते है। इसके अलावा भी का “𝐛𝐞𝐧𝐞𝐟𝐢𝐭𝐬 𝐨𝐟 𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐩𝐥𝐚𝐧𝐭” है जिन्हे आप जानकर अपने जीवन को सुखमय बना सकते है।

तुलसी का धार्मिक महत्व :-

तुलसी का भारत में कई महत्व है। तुलसी के आयुर्वेदिक महत्व के साथ भारत में इसके धार्मिक महत्व है। तो आइए पहले तुलसी के धार्मिक महत्व को समझें। कहीं लोग “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐯𝐢𝐯𝐚𝐡” भी करवाते है।

भारत के हर हिंदू धर्म में तुलसी की पूजा अर्चना की जाती है। हिंदू शास्त्रों में तुलसी को विष्णुप्रिया भी कहा जाता है। तुलसी को माता लक्ष्मी का ही रूप माना जाता है। इसलिए हर दिन तुलसी की पूजा की जाती है और दीया जलाया जाता है तथा “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐦𝐚𝐭𝐚 𝐚𝐚𝐫𝐭𝐢” की जाती है।

कई शुभ कार्यों में तुलसी की पूजा को सर्वोपरि माना गया है। आप जानते होंगे कि हनुमान जी को तुलसी से बहुत लगा है इसीलिए उन्हें सबसे पहले तुलसी दल का भोग लगाया जाता है। भगवान श्री कृष्ण की पूजा से पहले तुलसी की पूजा करना आवश्यक है अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपकी पूजा अधूरी मानी जाती है। इसी कारण आपको “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐩𝐮𝐣𝐚𝐧 𝐝𝐢𝐰𝐚𝐬” पर भी तुलसी पूजा के बाद श्री कृष्ण की भी आराधना करनी चाहिए।

तुलसी के पौधे को अपने घर में पवित्र स्थान जैसे भगवान के मंदिर के पास ही रखना चाहिए इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। भारत में हर हिंदू परिवार में सुबह महिलाएं “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐩𝐮𝐣𝐚” करती है। तुलसी के धार्मिक महत्व के अलावा कई साइंटिफिक महत्व भी है।

तुलसी का वैज्ञानिक महत्व :-

अगर तुलसी को वैज्ञानिक तौर पर देखा जाए तो इसका भी काफी प्रभाव है। तो आइए हम तुलसी के वैज्ञानिक और आयुर्वेदिक महत्व को जानते है। हर “𝐚𝐲𝐮𝐫𝐯𝐞𝐝𝐚 𝐛𝐨𝐨𝐤” में तुलसी के महत्व का वर्णन है।

यदि आपको सर्दी, जुखाम, गले की खराश जैसे बीमारी है तो तुलसी की मदद से इन्हें आसानी से भगा सकते है। आप इसका काढ़ा बनाकर पी सकते है और तुलसी की पत्तियों से मुंह की बदबू और मसूड़ों की बीमारी चली जाती है, यह सब “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐤𝐞 𝐩𝐚𝐭𝐭𝐞 𝐤𝐞 𝐟𝐚𝐲𝐝𝐞” है।

यदि आप रोज तुलसी का सेवन करते है तो आपका शरीर निरोगी बना रहता है। आपके शारीरिक और मानसिक तनाव में कमी आएगी। देखा जाए तो “𝐭𝐮𝐥𝐬𝐢 𝐤𝐞 𝐩𝐚𝐭𝐭𝐞 𝐤𝐡𝐚𝐧𝐞 𝐤𝐞 𝐟𝐚𝐲𝐝𝐞” है लेकिन एक बात हमेशा ध्यान रखे कि तुलसी के पत्तों को कभी भी चबाना नहीं चाहिए क्योंकि इसमें पर मौजूद होता है जो दांतों के लिए हानिकारक होता है।

आपको बता दूं कि तुलसी में कई एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल आदि गुण मौजूद होते है जो शरीर के इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाने में सहायता करते है। इसके कारण आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

निष्कर्ष :-

आज आपने इस ब्लॉग में तुलसी का पौधा किस दिन लगाना चाहिए इसके बारे में जाना है। हमने इस ब्लॉग में तुलसी के गुण और महत्व के बारे में भी विस्तार से बताया है। तुलसी का पौधा शांति, स्वास्थ्य और पूजा अर्चना का प्रतीक माना गया है।

हमेशा तुलसी के पौधे को पवित्र स्थान में रखना चाहिए और सुबह उसकी पूजा भी करनी चाहिए। इससे आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। तुलसी का पौधा आपके आस-पास के वातावरण को शुद्ध बनाता है।

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी है। इसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ भी साझा कीजिए। अगर आप “𝐚𝐚𝐝𝐡𝐲𝐚𝐭𝐦𝐢𝐤” और धार्मिक चीजों में रुचि रखते हैं हमारे यूट्यूब चैनल Bhakti Ocean को सब्सक्राइब कर सकते हैं। ऐसी ही रोचक पोस्ट के लिए हमसे जुड़े रहे।

Leave a Comment