Hey Swar Ki Devi Maa Lyrics – हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो

Hey Swar Ki Devi Maa Lyrics in Hindi

हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो
में गीत सुनाती हूँ संगीत की शिक्षा दो

सरगम का ज्ञान नही,
ना लय का ठिकाना है,
तुम्हे आज सभा में माँ,
हमे दरश दिखाना है |
संगीत समंदर से सुरताल हमें दे दो

हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो
में गीत सुनाती हूँ संगीत की शिक्षा दो

शक्ति ना भक्ति है,
सेवा का ज्ञान नही,
तुम्हे आज सुनाने को,
कोई सुन्दर गान नही
गीतों के खजानो से,
एक गीत मुझे दे दो

हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो
में गीत सुनाती हूँ संगीत की शिक्षा दो

अज्ञान ग्रसित होकर,
क्या गीत सुनाऊ में,
टूटे हुए शब्दो से,
क्या स्वर को सजाऊँ में
तू ज्ञान का स्त्रोत बहा,
माँ मुझपे दया कर दो

हे स्वर की देवी मा वाणी में मधुरता दो,
हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो,
में गीत सुनाती हूँ संगीत की शिक्षा दो

He Swar Ki Devi Maa Lyrics In English

he svar ki devi maan vaani mein madhurata do,
mein git sunaati hoon sangit ki shiksha do

saragam ka gyaan nahi,
na lay ka thikaana hai,
tumhe aaj sabha mein maan,
hame darash dikhaana hai
sangit samandar se surataal hamen de do

he svar ki devi maan vaani mein madhurata do,
mein git sunaati hoon sangit ki shiksha do

shakti na bhakti hai,
seva ka gyaan nahi,
tumhe aaj sunaane ko,
koi sundar gaan nahi
giton ke khajaano se,
ek git mujhe de do

he svar ki devi maan vaani mein madhurata do,
mein git sunaati hoon sangit ki shiksha do

agyaan grasit hokar,
kya git sunaoo mein,
toote hue shabdo se,
kya svar ko sajaoon mein
too gyaan ka strot baha,
maan mujhape daya kar do

he svar ki devi ma vaani mein madhurata do,
he svar ki devi maan vaani mein madhurata do,
mein git sunaati hoon sangit ki shiksha do

Leave a Comment